हिन्दी फिचर फिल्म ‘फिज़ा में तपिश’ का पहला पोस्टर जारी कर दिया गया है। यह एक ऐसी फिल्म है, जिसमें धार्मिक कट्टरता और उदारवादी सोच के बीच ठनी लड़ाई का जीवन्त चित्रण है। इसे बहुत जल्द दर्शक और सिनेप्रेमी डिजिटल प्लेटफार्म पर देख सकेंगे। फिल्म के डायरेक्टर राहत खान ने बताया कि यह फिल्म धार्मिक कट्टरता और उदारवादी सोच के बीच चल रहे उन समसामयिक मुद्दों की कहानी है, जिनसे हमारा समाज हर रोज रुबरू हो रहा है। उल्लेखनीय बात यह है कि इस फिल्म की नब्बे प्रतिशत शूटिंग संगम नगरी प्रयागराज में हुई है।

‘फिज़ा में तपिश’ बनकर तैयार हो चुकी है, जिसे हम शीघ्र ही डिजिटल प्लेटफार्म पर देख पायेंगे। वास्तव में यह फिल्म न सिर्फ विचारों के द्वंद्व को दिखाती है बल्कि यह भी प्रदर्शित करती है कि कैसे आतंकवादी संगठन हनी ट्रैप का उपयोग करके युवाओं को प्रभावित कर रहे हैं और उनके गुस्से का इस्तेमाल देश और समाज के खिलाफ कर रहे हैं। फिल्म में सलमान शेख हैं, जिन्होंने ससुराल सिमर इत्यादि टीवी सिरियल्स में काम किए हैं। ऋचा कालरा, मिथिलेश चतुर्वेदी जिन्होंने ‘स्कैम 1992:द हर्षद मेहता’ स्टोरी सहित हिन्दी फिल्म सत्या, ताल, गदर-एक प्रेम कथा, कोई मिल गया, बंटी और बबली इत्यादि फ़िल्मों में काम किया है। सीमा आजमी, जो चक दे इण्डिया, मोहल्ला अस्सी, वॉटर और टीवी सीरीज ये जादू जिन्न में अपना अभिनय दिखा चुकी है, भी हैं। अतुल भारद्वाज एवं आलोक नायर ने इस फ़िल्म में अहम भूमिका निभायी हैं।

फिल्म में संगीत राजा अली का है, वहीं गीत जावेद अली, अमन तिर्खा, अल्तमश फरिदी एवं मुन्नवर अली ने गाया है। फिल्म की पटकथा असर नज्मी ने लिखी है और असलम सानी ने गीत लिखे है। फिल्म का सह-निर्देशन राममणि त्रिपाठी का है। उन्होंने उम्मीद जताई कि फिल्म अपनी नई तरह की कहानी और तेवर के साथ दर्शकों के सामने पेश होगी और खूब पसंद की जाएगी।






Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here